Mexico-105878013

अब अंधेरी रात में पाकिस्तान और बांग्लादेश बॉर्डर पर घुसपैठिए, आतंकी और दुश्मन सैनिक बीएसएफ के निशाने से बच नहीं पाएंगे। मशीनगन और रायफल्स से रात के वक्त जवानों के पांच में से एक या दो निशाने ही सही बैठते थे, लेकिन अब इन्हीं अल्ट्रा मॉडर्न हथियारों से चार से पांच निशाने लगाए जा रहे हैं। यह बदलाव आया है इंदौर स्थित बीएसएफ के टॉप ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट ‘सेंट्रल स्कूल ऑफ वेपंस एंड टेक्टिक्स’ में आॅफिशियल्स द्वारा ईजाद की गई एक छोटी सी टेक्नोलॉजी से। हथियारों पर अब रेडियम स्ट्रीप लगा दी गई है। इसका खर्च प्रति हथियार सिर्फ 2 रुपए है। रेडियम स्ट्रीप से टारगेट आसानी से दिखता है…

– इंस्टीट्यूट के 2 अॉफिशियल्स आईजी पंकज गूमर और वेपंस एंड टेक्टिक्स ब्रांच के सेकंड कमांड-इन-चीफ बीके सिंह ने इन हथियारों पर रेडियम की स्ट्रीप लगाकर एक्सपेरिमेंट
शुरू किया। विंग कमांडर सिंह बताते हैं कि दिन में जिन प्वॉइंट्स को देख आसानी से निशाना साधा जाता है, वे प्वॉइंट्स अंधेरे में नजर न आने के कारण दिक्कत होती है। रेडियम स्ट्रीप से ये प्वॉइंट्स आसानी से देखे जा सकते हैं। इसे सिर्फ अंदर की ओर लगाया जाता है, जिससे सामने से कोई इसे न देख सके और निशाना लगा रहे जवान को ही यह दिखाई दे।
प्रैक्टिस में मिले बेहतर नतीजे
– सिंह ने बताया कि यह बदलाव करने के बाद कुछ हथियारों पर रेडियम स्ट्रीप लगाकर रात के वक्त फायरिंग की प्रैक्टिस की गई। इसके लिए बोर्ड ऑफ ऑफिसर्स का गठन किया गया, जिसमें 5 अॉफिशियल्स शामिल थे। रात को सभी ने फायरिंग की प्रैक्टिस की। सामान्य हथियारों के मुकाबले रेडियम स्ट्रीप लगे हथियारों से निशाने कहीं ज्यादा बेहतर लगे। अच्छे नतीजे आने के बाद नाइट फायरिंग का स्टैंडिंग ऑपरेटिंग प्रोसिजर बनाकर बीएसएफ के डीजी को भेजा गया। इस पर डीजी ने इसे एक्सपेरिमेंट के लिए देश की सभी फ्रंटियर्स को इस्तेमाल करने के इंस्ट्रक्शन जारी किए हैं।

http://loksamachar.in/wp-content/uploads/2017/05/Mexico-105878013.jpghttp://loksamachar.in/wp-content/uploads/2017/05/Mexico-105878013-150x150.jpgADMINspecialदेशअब अंधेरी रात में पाकिस्तान और बांग्लादेश बॉर्डर पर घुसपैठिए, आतंकी और दुश्मन सैनिक बीएसएफ के निशाने से बच नहीं पाएंगे। मशीनगन और रायफल्स से रात के वक्त जवानों के पांच में से एक या दो निशाने ही सही बैठते थे, लेकिन अब इन्हीं अल्ट्रा मॉडर्न हथियारों से चार...HIDDEN STORIES